क्रिया की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

इस पेज पर हम क्रिया की समस्त जानकारी पढ़ने वाले हैं तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए।

पिछले पेज पर हमने संज्ञा की जानकारी शेयर की हैं तो उस पोस्ट को भी पढ़े।

चलिए आज हम क्रिया की समस्त जानकारी पढ़ते और समझते हैं।

क्रिया किसे कहते हैं

क्रिया का मतलब किसी कार्य को करना होता है। जिन शब्दों से यह पता चले की कोई कार्य हो रहा है या किसी के द्वारा किया जा रहा है उसे क्रिया कहते हैं। 

व्याकरण में कोई भी वाक्य क्रिया के बिना पूरा नहीं होता है। इसे भी व्याकरण का एक विकारी शब्द माना जाता हैं। इसका रूप लिंग और वचन के पुरुष के कारण से बदलते हैं।

क्रिया के वजह से हमें यह पता चलता है की कार्य वर्तमान में हुआ है, भूतकाल में हो चूका है या भविष्यकाल में होने वाला है। क्रिया का निर्माण धातु से होता है। 

जब धातु के अंत में ना लगा दिया जाता है। तब वह धातु क्रिया बन जाती हैं। क्रिया को संज्ञा और विशेषण से भी बनाया जाता है। 

जैसे :- खाना, नाचना, खेलना, पढना, मारना, पीना, जाना, सोना, लिखना, जागना, रहना, गाना, दौड़ना आदि।

क्रिया के वाक्य उदाहरण :-

  • राम खेल रहा है।
  • मीना नाच रही है।
  • अली किताब पढ़ रहा है।
  • बाजार में बम्ब फट गया है।
  • बच्चा पलंग से गीर गया है।
  • बाहर बारिस हो रही है।
  • राधा नाच रही है।
  • मुकेश कॉलेज जा रहा है।
  • सरोज खाना खा रही है।
  • राम खाना खाता है।
  • घोडा दौड़ता है।

धातु क्या हैं

जिस मूल रूप से क्रिया को बनाया जाता है उसे धातु कहते है। यह क्रिया का ही एक रूप होता है। धातु को क्रिया का मूल रूप कहते हैं।

जैसे :- बोल, पढ़, घूम, लिख, गा, हँस, देख, जा, खा, बोल, रो आदि।

1. संज्ञा शब्दों से बनाए कुछ नाम धातु के उदहारण

संज्ञा शब्द नाम धातु
शर्मशर्माना
लोभलुभाना
बातबतियाना
झूठझुठलाना
लातलतियाना
दुःखदुखियाना

2. सर्वनाम शब्दों से बने नामधातु के कुछ उदाहरण

सर्वनाम शब्द नामधातु
अपना अपनापन
पराया परायापन

3. विशेषण शब्दों से बने नामधातु के कुछ उदहारण

विशेषण शब्द नामधातु
साठसठियाना
तोतलातुतलाना
नरमनरमाना
गरमगरमाना
लज्जालजाना
लालचललचाना
फिल्मफिल्माना

4. अनुकरणवाची शब्दों से बने नामधातु के कुछ उदहारण

अनुकरणवाची शब्दनामधातु
थप-थप थपथपाना
थर-थरथरथराना
कँप-कँपकंपकंपाना
टन-टनटनटनाना
बड-बडबडबडाना
खट-खटखटखटाना

धातु के प्रकार

शब्द निर्माण की दृष्टि से धातु दो प्रकार के होते हैं।

  • मूल धातू
  • यौगिक धातु

1. मूल धातु :- मूल धातु स्वतंत्र होती है और किसी दूसरे शब्द पर आश्रित नहीं होती है।

जैसे :- खा, पढ़, लिख, गा, जा, रो आदि।

2. यौगिक धातु :- योगी की धातु किसी प्रत्यय के योग से बनती है ऐसा करने पर क्रिया अकर्मक सकर्मक और प्रेरणार्थक बनती है।

जैसे :- पढ़ना से पढ़ा, लिखना से लिखा, खाना से खिलाई आदि।

कर्म के आधार पर क्रिया के प्रकार

कर्म के आधार पर क्रिया के दो प्रकार होते हैं।

1. अकर्मक क्रिया :- जिस क्रिया का फल कर्ता पर पड़ता है उसे अकर्मक क्रिया कहते हैं।

जैसे :- बालक सोता है, बच्चा रोता है इत्यादि।

2. सकर्मक क्रिया :- जिस क्रिया का फल कर्म पर पड़ता है उसे सकर्मक क्रिया कहते हैं।

जैसे :- हरि क्या खाता है, बच्चा क्यों रो रहा है इत्यादि।

संरचना या प्रयोग के आधार पर क्रिया के प्रकार

संरचना या प्रयोग के आधार पर क्रिया के आठ प्रकार है।

  1. सामान्य क्रिया
  2. संयुक्त क्रिया
  3. नामधातु क्रिया
  4. प्रेरणार्थक क्रिया
  5. पूर्वकालिक क्रिया
  6. कृदंत क्रिया
  7. सहायक क्रिया
  8. सजातीय क्रिया

प्रयोग के आधार पर क्रिया के प्रकार

प्रयोग के आधार पर क्रिया दो प्रकार की होती है।

  • रूढ़
  • यौगिक

1. रूढ़ क्रिया :- जिस क्रिया की रचना धातु से होती है, उसे रूढ़ क्रिया कहते हैं।

जैसे :- पढ़ना, लिखना, नहाना, खाना, पीना आदि।

2. यौगिक क्रिया :- जिस क्रिया की रचना एक से अधिक तत्वों से होती है, उसे यौगिक क्रिया कहते हैं।

जैसे :- आते जाते रहना, नचाना, लिखवाना, पढ़वाना, समझाना, बताना, बड़बड़ाना आदि।

क्रिया से संबंधित प्रश्न उत्तर

1. नीचे दिए गए वाक्यों में क्रिया को रेखांकित करें।

(क). मैं घर जाता हूं।

उत्तर :- मैं घर जाता हूं।

(ख). वे सब किताब पढ़ते हैं।

उत्तर :- वे सब किताब पढ़ते हैं।

(ग). लड़के क्रिकेट खेलते हैं।

उत्तर :- लड़के क्रिकेट खेलते हैं।

(घ). तुम खेलने जाओगे।

उत्तर :- तुम खेलने जाओगे।

(च). कुत्ते भोंकते हैं।

उत्तर :- कुत्ते भोंकते हैं।

(छ). बच्चे सो रहे हैं।

उत्तर :- बच्चे सो रहे हैं।

(ज). उसने एक पत्र लिखा।

उत्तर :- उसने एक पत्र लिखा।

(झ). शिक्षक कक्षा में पढ़ाते हैं।

उत्तर :- शिक्षक कक्षा में पढ़ाते हैं।

उम्मीद हैं आपको क्रिया की जानकारी पसंद आयी होगीं।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो दोस्तों के साथ शेयर कीजिए।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.