पुरुषवाचक सर्वनाम की परिभाषा, प्रकार, कारक और उदाहरण

इस पेज पर आप पुरुषवाचक सर्वनाम की समस्त जानकारी पढ़ने वाले हैं।

पिछले पेज पर हमने सर्वनाम की जानकारी शेयर की हैं तो उस पोस्ट को भी पढ़े।

चलिए पुरुषवाचक सर्वनाम की समस्त जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

पुरुषवाचक सर्वनाम क्या हैं

स्त्री और पुरुष के मेल को पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं। हिंदी व्याकरण में पुरुष चेतन भी होता है और जड़ भी।

पुरुष वाचक सर्वनाम स्त्रीलिंग और पुल्लिंग के नाम के बदले आने वाले शब्दों को कहते हैं। अर्थात जिस सर्वनाम का उपयोग किसी व्यक्ति या वस्तु के लिए किया जाता है उसे पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं।

पुरुष के लिंग के अनुसार क्रिया का व्यवहार होता है। मैं पुरुषवाचक सर्वनाम का व्यवहार जब स्त्री करेगी तब उसकी क्रिया स्त्री वाचक होगी।

जैसे :- मैं जाती हूँ।

इसके विपरीत जब पुरुष इसका व्यवहार करेगा तब उसकी क्रिया पुरुषवाचक होगी।

जैसे :- मैं जाता हूँ।

इस प्रकार पुरुषवाचक सर्वनाम के लिए पहले से ही लिंग निर्धारित नहीं होते हैं। यह लिंग संज्ञाओं के स्थान पर आते हैं और उन्हीं के अनुसार उनका लिंग निर्धारित होता है।

पुरुषवाचक सर्वनाम के प्रकार

पुरुषवाचक सर्वनाम के तीन प्रकार होते हैं।

  1. उत्तम पुरुष 
  2. मध्यम पुरुष
  3. अन्य पुरुष

नोट :- इन्हें क्रमशः प्रथम पुरुष, द्वितीय पुरुष और तृतीय पुरुष भी कहते हैं।

1. उत्तम पुरुष

कहने वाले या बोलने वाले को उत्तम पुरुष कहते हैं।

जैसे :- मैं, हम, हम लोग, हमारा, मैंने, मुझे, मुझको, मुझसे आदि।

वाक्य उदाहरण :-

  • मैं इस विद्यालय में पढ़ता हूं।
  • हम लोग मथुरा से आए हैं।

2. मध्यम पुरुष

सुनने वाले को मध्यम पुरुष कहते हैं।

जैसे :- तुम, तू, तुम लोग, तुमसे आदि।

वाक्य उदाहरण :-

  • तुम कहां से आए हो?
  • मैं तुमसे दोस्ती करना चाहता हूं।

3. अन्य पुरुष

जिसके बारे में बात किया जाए उसे अन्य पुरुष कहते हैं।

जैसे :- वह, यह, वे, ये आदि।

वाक्य उदाहरण :-

  • वह कल पटना गया था।
  • यह मेरा घर है।

पुरुषवाचक सर्वनाम कारक रूप में

1. उत्तम पुरुष

कारक और वचन के अनुसार उत्तम पुरुष के रूप इस प्रकार बनते हैं।

कारकएक वचनबहुवचन
कर्तामैं, मैंनेहम लोग, हमलोगों ने
कर्ममुझे, मुझको हम लोगों को, हमें
करणमुझसेहम लोगों से
संप्रदानमुझे, मेरे लिएहम लोगों के लिए
अपादानमुझसेहम लोगों से
संबंधमेरा, रे, रीहम लोगों का, के, की
अधिकरणमुझ परमुझ में  हम लोगों पर, हम लोगों में

नोट :- सर्वनाम का संबोधन नहीं होता है।

2. मध्यम पुरुष 

संबोधन को छोड़ सभी कारको और वचनों में मध्यम पुरुष का रूप निम्नलिखित प्रकार से बनता है।

कारकएक वचनबहुवचन
कर्तातुम, तूनेतुम लोगों ने
कर्मतुझे, तुझकोतुम लोगों को
करणतुमसेतुम लोगों से
संप्रदानतुम्हें, तुम्हारे लिएतुम लोगों के लिए
अपादानतुमसेतुम लोगों से
संबंधतुम्हारा, रे, रीतुम लोगों का, के, की
अधिकरणतुम पर, तुममेंतुम लोगों पर, तुम लोगों में

3. अन्य पुरुष

अन्य पुरुष सर्वनाम के रूप सभी कारको और वचनों में इस प्रकार बनते हैं।

कारकएक वचनबहुवचन
कर्तावह, उसनेवे, उन्होंने, उन लोगों ने
कर्मउसे, उसकोउनको, उन्हें, उन लोगों को
करणउससेउनसे
संप्रदानउसे, उसके लिएउन्हें, उनको, उनके लिए
अपादानउससेउनसे, उन लोगों से
संबंधउसका, उसके, उसकीउनका, उनके, उनकी
अधिकरणउसमें, उस परउनमें, उन पर, उन लोगों पर

पुरुषवाचक सर्वनाम के प्रश्न उत्तर

नीचे दिए गए वाक्यों में पुरुषवाचक सर्वनाम को रेखांकित करें।

1. मैं आज नई दिल्ली जा रहा हूँ?

उत्तर :- मैं आज नई दिल्ली जा रहा हूँ।

2. आज हम व्यस्त हैं।

उत्तर :- आज हम व्यस्त हैं।

3. तुम वहां जा सकते हो।

उत्तर :- तुम वहां जा सकते हो।

4. वह अच्छा गा सकती है।

उत्तर :- वह अच्छा गा सकती है।

5. वह एक बहादुर लड़का है।

उत्तर :- वह एक बहादुर लड़का है।

6. हरि ने मुझे एक किताब दिया।

उत्तर :- हरि ने मुझे एक किताब दिया।

7. मैं लंबा हूँ।

उत्तर :- मैं लंबा हूँ।

8. वे लोग बुड्ढे हैं।

उत्तर :- वे लोग बुड्ढे हैं।

9. हम सब गोवा जा रहे हैं।

उत्तर :- हम सब गोवा जा रहे हैं।

10. तुम सब कल पढ़ने नहीं आए थे।

उत्तर :- तुम सब कल पढ़ने नहीं आए थे।

जरूर पढ़िए :

उम्मीद हैं आपको पुरुषवाचक सर्वनाम की समस्त जानकारी पसंद आयी होगी।

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.