शृंगार रस की परिभाषा, अवयव, प्रकार और उदाहरण

इस पेज पर आप शृंगार रस से संबंधित समस्त जानकारी विस्तार से पढ़ेंगे।

पिछली पोस्ट में हमने रस की जानकारी शेयर की हैं तो उस पोस्ट को भी पढ़े।

चलिए आज हम शृंगार रस की परिभषा, अवयव, प्रकार और उदाहरण की जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

शृंगार रस की परिभाषा

जहां नायक और नायिका की अथवा महिला पुरुष के प्रेम पूर्वक श्रेष्ठाओं क्रिया-कलापों का श्रेष्ठाक वर्णन होता हैं वहां श्रृंगार रस होता हैं।

अर्थात जहां नायक और नायिका के मन में पूर्ण रूप से स्थित रति या प्रेम जब रस की अवस्था में पहुँच जाता हैं तो उसे शृंगार रस कहते हैं।

शृंगार रस को रसराज भी कहा जाता हैं।

उदाहरण :-

राम को रूप निहारत जानकी,
कंगन के नग की परछाई।
याते सवै सुध भूल गई,
कर टेक रही पल टारत नाही।।

व्याख्या – प्रस्तुत पंक्‍तियों में तुलसीदास जी कहते हैं कि माता सीता प्रभु श्रीराम का रूप निहार रही हैं क्योंकि दूल्हे के वेश में श्रीराम अत्यन्त मनमोहक दिख रहे हैं।

जब अपने हाथ में पहने कंगन में जड़ित नग में प्रभु श्रीराम की मनमोहक छवि की परछाई देखती हैं तो वो स्वयं को रोक नही पातीं हैं और एकटक प्रभु श्रीराम की मनमोहक छवि को निहारती रह जाती हैं।

शृंगार रस के अवयव

शृंगार रस के पांच अवयव हैं।

शृंगार रस का स्थाई भाव :- श्रंगार रस का स्थाई भाव रति होता हैं।

शृंगार रस का संचारी भाव :- उग्रता, जुगुप्सा, मरण जैसे भाव को छोड़कर सभी हर्ष, जड़ता, निर्वेद, आवेग, उन्माद, अभिलाषा आदि आते हैं।

शृंगार रस का अनुभाव :- अवलोकन, स्पर्श, आलिंगन, रोमांच, अनुराग आदि हैं।

शृंगार रस का उद्दीपन विभाव :- नायक-नायिका की चेष्टाए हैं।

रस का आलम्बन भाव :- प्रकति, पक्षी के कुंजन, सुंदर-सुंदर उपवन, वसंत ऋतू आदि।

शृंगार रस के प्रकार

शृंगार रस के दो प्रकार होते हैं।

  • संयोग श्रृंगार
  • वियोग श्रृंगार

इन दोनों के माध्यम से प्रेम के विशाल रूप प्रकट होते हैं।

1. संयोग श्रृंगार

संयोग श्रृंगार के अंतर्गत नायक-नायिका का परस्पर मिलन होता है। दोनों के द्वारा किए गए क्रियाकलापों को उनके सुखद अनुभूतियों को संयोग श्रृंगार के अंतर्गत माना गया हैं।

उदाहरण :-

बतरस लालच लाल की मुरली धरी लुकाय,
सौंह करे भौंहन हंसे देन कहे नटि जाय।।

व्याख्या :- गोपियाँ अपने परम प्रिय कृष्ण से बातें करने का अवसर खोजती रहती हैं। इसी बतरस (बातों के आनंद) को पाने के। प्रयास में उन्होंने कृष्ण की वंशी को छिपा दिया है। कृष्ण वंशी के खो जाने पर बड़े व्याकुल हैं।

2. वियोग शृंगार रस

वियोग शृंगार रस वहाँ होता हैं जहां नायक और नायिका का वियोग होता। दोनों मिलने के लिए व्याकुल होते हैं। यह बिरह इतना तीव्र होता हैं कि सब कुछ जला कर भस्म करने के लिए सदैव आतुर रहता हैं।

उदाहरण :-

उधो, मन न भए दस बीस।
एक हुतो सो गयौ स्याम संग, को अवराधै ईस।।

व्याख्या :- गोपियां कहती है, मन तो हमारा एक ही है, दस-बीस मन तो हैं नहीं कि एक को किसी के लगा दें और दूसरे को किसी और में। अब वह भी नहीं है, कृष्ण के साथ अब वह भी चला गया।

यों तो हम बिना सिर की-सी हो गई हैं, हम कृष्ण वियोगिनी हैं, तो भी श्याम-मिलन की आशा में इस सिर-विहीन शरीर में हम अपने प्राणों को करोड़ों वर्ष रख सकती हैं। तुम तो योगियों में भी शिरोमणि हो।

जरूर पढ़िए :

शृंगार रस से संबंधित प्रश्न उत्तर

1. रसराज किस रस को कहा जाता है?
A. हास्य रस
B. करूण रस
C. शृंगार रस
D. वीर रस

Ans. शृंगार रस

2. शृंगार रस का स्थाई भाव बताये?
A. भय रस
B. रति
C. भाव
D. शोक

Ans. रति

3. शृंगार रस के कितने अवयव है?
A. 11
B. 4
C. 8
D. 5

Ans. 5

4. कवि बिहारी मुख्यतः किस रस के कवि हैं?
A. करुण
B. भक्ति
C. वीर
D. श्रृंखला

Ans. श्रृंगार

5. सर्वश्रेष्ठ रस किसे माना जाता हैं?
A. रौद्र रस
B. श्रृंगार रस
C. करुण रस
D. वीर रस

Ans. श्रृंगार रस

6. श्रृंगार रस कितने प्रकार के होते है?
A. 1
B. 2
C. 3
D. 4

Ans. 2

7. माधुर्य गुण का किस रस में प्रयोग होता है?
A. शांत रस
B. भयानक रस
C. शृंगार रस
D. रौद्र रस

Ans. शृंगार रस

8. राम को रूप निहारत जानकी,
कंगन के नग की परछाई।
याते सवै सुध भूल गई,
कर टेक रही पल टारत नाही।।

किस रस का उदाहरण है?
A. भयानक
B. शृंगार रस
C. हास्य
D. वीर रस

Ans. शृंगार रस

9. मेरे तो गिरिधर गोपाला दुसरो न कोई, जके सिर मोर मुकुट मेरो पति सोई, इन पंक्तियों में कौन सा रस है?
A. शांत रस
B. वीर रस
C. करूण रस
D. शृंगार रस

Ans. शृंगार रस

10. शृंगार रस को और किस नाम से जाना जाता है?
A. रति
B. शांत
C. रसराज
D. भय

Ans. रसराज

जरूर पढ़िए :

उम्मीद हैं आपको शृंगार रस की यह पोस्ट पसंद आयी होगीं।

यदि पोस्ट यह पोस्ट पसंद आयी हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.