विस्मयादिबोधक अव्यय की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

इस पेज पर आप विस्मयादिबोधक अव्यय की समस्त जानकारी पढ़ने वाले हैं तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़िए।

पिछले पेज पर हमने संज्ञा की पोस्ट शेयर की हैं तो उस आर्टिकल को भी पढ़े।

चलिए आज हम विस्मयादिबोधक अव्यय की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण की समस्त जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

विस्मयादिबोधक अव्यय क्या हैं

वह शब्द जिससे हर्ष अर्थात खुशी, शोक अर्थात दुख, आश्चर्य, आशीर्वाद इत्यादि जैसे भावनाओं का आकस्मिक भाव प्रकट हो विस्मयादिबोधक अव्यय कहलाता है।

उदाहरण :-

  • अरे!, 
  • हाय!, 
  • शाबाश!, 
  • बहुत अच्छा!, 
  • वाह! वाह!, 
  • ओह!, 
  • छी! छी!, 
  • क्या! इत्यादि।

विस्मयादि बोधक अव्यय के प्रकार

विस्मयादिबोधक के कुल दस प्रकार होते हैं।

  1. शोक बोधक
  2. तिरस्कार बोधक
  3. स्वीकृति बोधक
  4. संबोधन बोधक
  5. हर्ष बोधक
  6. भय बोधक
  7. आशीर्वाद बोधक
  8. अनुमोदन बोधक
  9. विदास बोधक
  10. विवशता बोधक

1. शोक बोधक

शोक बोधक से हमें शोक अर्थात दुख के प्रकट होने का बोध होता है। शोक बोधक अव्यय का प्रयोग दुख प्रकट करने के लिए किया जाता है। 

जैसे :-

  • हे राम!
  • बाप रे बाप!
  • ओह!
  • उफ़!
  • हां! इत्यादि। 

उदाहरण :-

  • हे राम! उनकी आत्मा को शांति देना!
  • बाप रे बाप! मैं तो मर ही जाऊंगा!
  • हाय! यह क्या हो गया!
  • ओह! मुझे अफसोस है!

2. तिरस्कार बोधक

तिरस्कार बोधक से हमें तिरस्कार अर्थात किसी भी कार्य के लिए मना करने का बोध होता है। इनका प्रयोग वहां किया जाता है जहां तिरस्कार की भावना को प्रकट करना हो।

जैसे :-

  • छि: !
  • थू-थू
  • धिक्कार !
  • हट !
  • धिक् !
  • धत !
  • चुप !

उदाहरण :-

  • छि:! यह बहुत गंदा है!
  • अगर तुम यह भी नहीं कर सके तो धिक्कार! है तुम पर!
  • चुप! लगता है कोई आ रहा है!

3. स्वीकृति बोधक

तिरस्कार बोधक के विपरीत स्वीकृति बोधक का उपयोग वहां किया जाता है जहां किसी भी चीज को स्वीकार करना हो अर्थात स्वीकृति बोधक स्वीकार की भावना प्रकट करते हैं।

जैसे :-

  • अच्छा !
  • ठीक !
  • हाँ !
  • जी हाँ !
  • बहुत अच्छा !
  • जी ! इत्यादि।

उदाहरण :-

  • अच्छा ! यह बात है तो ठीक है!
  • जी हां ! मैं वही हूं जिसने आपको फोन किया था!
  • बहुत अच्छा ! मैं यही चाहता था!

4. संबोधन बोधक

संबोधन बोधक का उपयोग हम किसी व्यक्ति या वस्तु को संबोधित करने के लिए करते हैं। 

जैसे :-

  • अजी!
  • अरे!
  • हेलो! इत्यादि।

उदाहरण :-

  • अजी ! सुनते हो।
  • अरे! तुम कहां गए थे?
  • हैलो ! आप कौन बोल रहे हैं ?

5. हर्ष बोधक

हर्ष बोधक का उपयोग वहां किया जाता है जहां खुशी की भावना प्रकट करने हो अर्थात हर्ष बोधक खुशी की भावना प्रकट करते हैं।

जैसे :-

  • वाह -वाह !
  • धन्य !
  • अति सुन्दर !
  • अहा !
  • शाबाश ! इत्यादि।

उदाहरण :-

  • वाह! यह बहुत स्वादिष्ट व्यंजन है।
  • शाबाश ! तुमने आखिर यह कर ही दिखाया।
  • वाह ! यह तो किसी चमत्कार से कम नहीं।

6. भय बोधक

भय बोधक का प्रयोग वहां किया जाता है जहां भय अर्थात डर की भावना प्रकट करनी हो।

जैसे :-

  • बाप रे बाप !
  • ओह !
  • हाय !
  • उई माँ !
  • त्राहि – त्राहि इत्यादि।

उदाहरण :-

  • हाय! यह क्या हो गया?
  • उई माँ! बहुत जोर से दर्द हो रहा है।
  • बाप रे बाप ! इतना बड़ा सांप।

7. आशीर्वाद बोधक

आशीर्वाद बोधक का प्रयोग वहां किया जाता है जहां किसी को भी आशीर्वाद देना हो।

जैसे :-

  • जीते रहो!
  • खुश रहो!
  • सदा सुखी रहो!
  • दीर्घायु हो इत्यादि।

उदाहरण :-

  • सदा खुश रहो! बेटा।
  • जीते रहो ! भगवान करे तुम्हें कामयाबी मिले।

8. अनुमोदन बोधक

अनुमोदन बोधक का उपयोग वहां किया जाता है जहां अनुमोदन की भावना प्रकट होती है।

जैसे :-

  • हाँ !
  • बहुत अच्छा !
  • अवश्य ! इत्यादि।

उदाहरण :-

  • अवश्य! तुम यह काम सकते हो।
  • बहुत अच्छा ! ऐसे ही करते रहो।
  • हाँ हाँ ! हम ज़रूर मिलेंगे।

9. विदास बोधक

विदास बोधक का उपयोग वहां किया जाता है जहां विदाई की भावना प्रकट होती है।

जैसे :-

  • अच्छा !
  • अच्छा जी !
  • टा -टा ! इत्यादि।

उदाहरण :-

  • टा-टा ! कल मिलते हैं।
  • अच्छा ! फिर मिलेंगे।

10. विवशता बोधक

विवशता बोधक का उपयोग कहां किया जाता है जहां मजबूरी अर्थात विवशता की भावना प्रकट होती है।

जैसे :-

  • काश !
  • कदाचित् !
  • हे भगवान ! इत्यादि।

उदाहरण :-

  • काश! मैं भी अमीर होता।
  • हे भगवान! उसकी रक्षा करना।

विस्मयादिबोधक के उपयोग के नियम

विस्मयादिबोधक का किसी वाक्य में प्रयोग करते समय निम्नलिखित चीजों का ध्यान रखना पड़ता है।

जैसे :-

1. विस्मयादिबोधक अव्यय शब्दों वाक्य के प्रारंभ में ही उपयोग किए जाते हैं।

  • क्या! उसने मुझे धमकी दी।
  • हेलो! तुम कैसे हो?

उपयुक्त शब्द से पता चलता है कि विस्मयादिबोधक अव्यय शब्दो का उपयोग वाक्य के प्रारंभ में ही किया जाता है।

2. विस्मयादिबोधक अव्यय शब्दों के बाद Exclamation Mark (!) का उपयोग किया जाता है।

  • हाय! ऐसा क्यों हुआ?
  • शाबाश! तुमने यह कर दिखाया।

3. विस्मयादिबोधक अव्यय शब्द वाक्य के शेष भाग से अलग रहते हैं।

  • ओह! यह बहुत बुरा हुआ।
  • छी: तुम कितने गंदे हो?

जरूर पढ़िए :

उम्मीद हैं आपको विस्मयादि बोधक अव्यय की जानकारी पसंद आयी होगीं।

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आयी हो तो दोस्तों के साथ शेयर कीजिए।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.